Vijaya Ekadashi Vrat Katha - विजया एकादशी व्रत कथा - Today Ekadashi

विजया एकादशी व्रत कथा (Vijaya Ekadashi Vrat Katha) 

जय श्री कृष्ण भक्तो, हमारे हिन्दू धर्म मे एकादशी व्रत की महिमा अलौकिक है, ये व्रत करनेसे भगवान विष्णु की प्रसन्ता के साथ अपने सभी पापो का नाश और सभी प्रकारके भौतिक सुख और समृद्धि देने वाला ये व्रत है, आइए जानते है आजके इस पोस्ट मे विजया एकादशी व्रत की पौराणिक कथा (Vijaya ekadashi vrat katha) पूरी सुनाने जा रहे है।

Vijaya Ekadashi Vrat Katha -  विजया एकादशी व्रत कथा - Today Ekadashi

Vijaya Ekadashi Vrat Katha

फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को विजया एकादशी का व्रत रखा जाता है। इस दिन व्रत रखते हुए भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और विजया एकादशी व्रत कथा का पाठ किया जाता है। यदि आप अपने किसी कार्य में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको विजया एकादशी का व्रत जरूर करना चाहिए। 

विजया एकादशी व्रत की पौराणिक कथा

विजया एकादशी की पौराणिक कथा के अनुसार, जब रावण ने माता सीता का हरण कर लिया तो भगवान श्रीराम और उनके अनुज लक्ष्मण बहुत ही चिंतित हो गए। फिर उनको हनुमान जी की मदद से सुग्रीव से मुलाकात हुई और वे वानर सेना की मदद से रावण की लंका पर चढ़ाई करने के लिए विशाल समुद्र के तट पर आए। लंका पर चढ़ाई कैसे की जाए क्योंकि उनके सामने विशान समुद्र जैसी चुनौती थी। उनको कुछ उपाय समझ में नहीं आ रहा था। 

अंत में उन्होंने समुद्र से ही लंका पर चढ़ाई करने के लिए मार्ग मांगा, लेकिन वे असफल रहे।​ फिर उन्होंने ऋषि-मुनियों से इसका उपाय पूछा। तब उन्होंने श्रीराम को अपनी वानर सेना के साथ विजया एकादशी का व्रत करने का उपाय बताया। 

ऋषि-मुनियों ने बताया कि किसी भी शुभ कार्य की सिद्धि के लिए व्रत करने का विधान है।

ऋषि-मुनियों की बातें सुनकर भगवान राम ने फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को वानर सेना के साथ विजया एकादशी व्रत किया। विधि विधान से पूजा की। 

कहा जाता है कि विजया एकादशी व्रत के प्रभाव से ही उनको समुद्र से लंका जाने का मार्ग प्रशस्त हुआ। विजया एकादशी व्रत के पुण्य से श्रीराम ने रावण पर विजय प्राप्त की। 

तब से ही विजया एकादशी व्रत का महत्व और बढ़ गया। आम जनमास में विजया एकादशी व्रत प्रसिद्ध हो गया। लोग अपने किसी कार्य की सफलता के लिए विजया एकादशी व्रत करने लगे।

समापन - 

भक्तो, हमे आशा है की आपको हमारी ये पोस्ट Vijaya ekadashi vrat katha पसंद आई होगी, यदि अभी आपके मन मे इस पोस्ट को लेकर आप चाहते है की इसमे कुछ सुधार की जरूरत है, तो  आप नीचे comments मे लिख सकते है। आपके इस सुजाव को हम तुरंत अनुकरण करके पोस्ट मे सुधार करेंगे। यदि आपको हमारा यह पोस्ट “विजया एकादशी व्रत कथा” अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सीखने को मिला हो तो, अपनी प्रसनता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Media जैसे की Facebook, Twitter, Instagram और Whatsapp इत्यादिक पर Share जरूर कीजिए। धन्यवाद।

II जय श्री कृष्ण II  

Post a Comment

1 Comments

  1. Yaamava’ boasts over 200 video poker machines properly as|in addition to} bar-top video poker in all of our casino lounges. Our new analysis, however, has found that will increase within the casino benefit have produced significant gains in revenue with no signs of detection even by savvy gamers. In multiple of} comparisons of two otherwise equivalent reel video games, the high-priced video games produced significantly larger revenue for the casino. Of course, the primary end result is way more frequent than the other two – it has to be for the casino to maintain up} 우리카지노 its home benefit.

    ReplyDelete

Please do not enter any spam link in Message Box.

आज कौनसी एकादशी है? Which Ekadashi is Today and it's Important | 24/06/2022 | Ekadashi Date, time and Significance - Today ekadashi